boycott china

भारतीय बाजार से चीन की आर्थिकी हो रही मजबूत, फिर भी तरेर रहा आंखे

देहरादून : उत्तराखंड में भी चीनी सामान के बहिष्कार का बिगुल बज गया है। राजधानी देहरादून में बजरंग दल के तत्वाधान में राष्ट्रीय स्तर पर चीन निर्मित वस्तुओं का बहिष्कार और चीनी सामान की होली जलाई गई। साथ लोगों को जागरूक किया गया।

राजधानी के घंटाघर स्थित हनुमान मंदिर से जागरूकता अभियान चलाया गया। इस दौरान चीनी वस्तुओं की होली जलार्इ लगार्इ। साथ सभी को जानकारी दी गर्इ कि चीन निर्मित वस्तुओं को खरीदने पर देश पर कैसा संकट बना रहेगा। बजरंग दल के संह विभाग संयोजक विकास वर्मा ने कहा वर्तमान परिस्थितियों पर हमें तत्काल प्रभाव से आंतकवादी देश पाकिस्तान को शह देकर भारत की सीमाओं पर कुठाराघात करने वाले चीन का आर्थिक बहिष्कार करना होगा।

उन्होंने कहा कि भारत के सभी बाजार आज चायना निर्मित वस्तुओं से पटे पडे हैं और आज वह भारत को आंखे दिखाकर हमारी सीमाओं पर हमले की धमकी लगातार दे रहा है। चीन हमारी सीमाओं में अपनी विस्तारवादी नीति को लागू करने का पुरजोर प्रयास कर रहा। जो हमसब भारतवासियों के लिये चिंता का बड़ा कारण है।

उन्होंने यह भी कहा कि सीमा पर हमारे भारतीय सैनिक चीनी सैनिकों से संघर्षरत रहते हैं और हम उसी चीन को आर्थिक लाभ पहुंचाए यह देश के लिये गलत होगा। हमें भारत के बाजार को पूर्णरूप से चीन निर्मित वस्तुओं से मुक्त कर स्वदेशी वस्तुओं को अपनाकर आर्थिक रूप से भारत को मजबूत करना होगा। आज चीन का 160 बिलियन का निवेश भारत में है और कितने ही उघोग धंधे चीन पर निर्भर है।

भारत से है चीन की साझेदारी फिर भी तरेर रहा आंखे

उन्होंने बताया कि भारत के मोबाईल मार्केट में पचास फीसदी से अधिक की हिस्सेदारी चीन  की है। सोलर उधोग, रेल प्रोजेक्ट अधिकांश मे चीन भारत का साझीदार है, फिर भी वह यह सब भुलाकर भारत पर लगातार अपनी सैन्य शक्ति का दबाव बनाना चाहता है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *