Saturday, October 24News That Matters
Shadow

पड़ताल: क्या कोरोना से जुड़ी पोस्ट किसी ग्रुप में करने पर पुलिस एक्शन लेगी?

Viral message
शेयर करें !

देहरादून (Live Uttarakhand): देश में कोरोना वायरस का कहर बढ़ता जा रहा है। इस वक्त पूरा देश कोरोना से जंग लड़ रहा है। सरकार इस महामारी को लेकर समय-समय पर दिशानिर्देश जारी कर रही है। लेकिन इस बीच सोशल मीडिया पर एक मैसेज (Viral message) तेजी से फैलाया जा रहा है। इसमें दावा किया जा रहा है कि, आज रात 12 बजे से आपदा प्रबंधन अधिनियम लागू हो गया है। इसके तहत सरकारी विभाग के अलावा किसी को भी कोरोना वायरस से जुड़ा मैसेज करने की अनुमति नहीं होगी। इसका उल्लंघन दंडनीय अपराध होगा। इसके साथ एक Live Law वेबसाइट का एक लिंक भी शेयर किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें: सोशल मीडिया पर उत्तराखंड में 10 दिन के लॉकडाउन की अफवाह, होगी कार्रवाई

ये है वायरल मैसेज (Viral message):

प्रियजनों,

सभी के लिए जनादेश:

आज रात 12 (मध्यरात्रि) से देश भर में आपदा प्रबंधन अधिनियम लागू हो गया है। इस अपडेट के अनुसार, सरकार विभाग के अलावा किसी अन्य नागरिक को किसी भी अपडेट को पोस्ट करने या कोरोना वायरस से संबंधित किसी भी साझा करने की अनुमति नहीं है और यह दंडनीय अपराध है।ग्रुप एडमिन से अनुरोध है कि वे उपरोक्त अपडेट पोस्ट करें और समूहों को सूचित करें। कृपया इसका सख्ती से पालन करें।

https://www.livelaw.in/top-stories/centre-seeks-sc-direction-that-no-media-should-publish-covid-19-news-without-first-ascertaining-facts-with-govt-  1546

ग्रुप एडमिन से अनुरोध है कि वह 2 दिनों के लिए ग्रुप को बंद कर दे क्योंकि पुलिस एडमिन और ग्रुप मेंबर्स के खिलाफ सेक्शन 68, 140 और 188 के तहत एक्शन ले सकती है, अगर किसी ने गलती से भी कोरोना पर पोस्ट किया है। तो हर कोई मुश्किल में पड़ सकता है। इसलिए मैं जरूरी कदम उठाने के लिए ग्रुप एडमिन का ध्यान आकर्षित करता हूं।

लगातार वायरल हो रहे इस दावे (Viral message) की जब लाइव उत्तराखंड ने पड़ताल की, तो यह (Viral message) फेक निकला। हालाँकि यह मैसेज लॉकडाउन की शुरुआत में पहले भी वायरल हुआ, लेकिन कुछ हफ्ते थमने के बाद एक बार फिर से वायरल होने लगा है।

Viral message की ये है सच्चाई

इस दावे में शेयर किये गये लिंक Live Law ने खुद इस दावे को फेक बताया है और इस मैसेज को शेयर ना करने की अपील की है।

PIB (Press Information Bureau) प्रेस सूचना ब्यूरो ने इस दावे को फेक बताया है।

हालाँकि कोरोना महामारी के चलते देश में केंद्र सरकार ने आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 लागू तो किया, लेकिन इस कानून का कोई संबंध आम नागरिक के सोशल मीडिया पोस्ट या कोरोना से जुड़े मैसेज फॉर्वर्ड करने से बिलकुल नहीं है। लेकिन हमे कोरोना वायरस के मुश्किल वक्त में किसी तरह की जानकारियां बिना जांचे सोशल मीडिया पर शेयर नहीं करनी चाहिए, एक ज़िम्मेदार नागरिक होने के कारण इस तरह के मैसेज से बचना बेहतर रहेगा।

लाइव उत्तराखंड से यूट्यूब पर जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें

शेयर करें !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *