BSF Jawan

आतंकियों ने बीएसएफ जवान को मार डाला

उत्तरी कश्मीर के हाजिन (बांडीपोरा) में लश्कर के आतंकियों ने छुट्टी पर घर आए निहत्थे बीएसएफ जवान की उसके घर में ही गोलियों से भूनकर हत्या कर दी। इस हमले में शहीद जवान के पिता, भाई और बुआ समेत तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। हमले के बाद फरार आतंकियों को पकड़ने के लिए पुलिस व सेना ने पूरे इलाके की घेराबंदी करते हुए सघन तलाशी अभियान चला रखा है। शहीद बीएसएफ जवान की पहचान रमीज अहमद के रूप में हुई है वह राजस्थान में तैनात था और कुछ दिन पहले ही छुट्टी पर घर आया था।

यह भी पढ़े : डोनाल्ड ट्रम्प ने फेसबुक को बताया ‘ट्रंप विरोधी’

बीते छह माह के दौरान कश्मीर में सेना या केंद्रीय अ‌र्द्धसैनिकबल में तैनात किसी स्थानीय युवक की आतंकियों द्वारा हत्या की यह दूसरी वारदात है। इससे पहले आतंकियों ने 10 मई को दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में लेफ्टिनेंट उमर फैयाज को अगवा कर मौत के घाट उतारा दिया था। वह भी छुट्टी पर घर आया था।

सूत्रों के अनुसार, तीन से चार आतंकियों का एक दल रात करीब आठ बजे हाजिन के पर्रे मोहल्ले में स्थित गुलाम अहमद के घर दाखिल हुए। बताया जा रहा है कि आतंकियों ने उसके घर में शरण लेनी चाही। गुलाम अहमद के बड़े पुत्र रमीज अहमद ने मना करते हुए आतंकियों को चले जाने को कहा। इस पर उसकी आतंकियों के साथ बहस व धक्का-मुक्की भी हो गई। मामला बिगड़ता देख आतंकी वहां से चले गए। कुछ ही देर बाद आतंकी दोबारा लौटे और इस बार उनकी तादाद ज्यादा थी। उन्होंने पूरे परिवार को एक जगह जमा किया और उसके बाद उन्होंने रमीज व उसके भाई मुमताज को अपने साथ चलने के लिए कहा, लेकिन रमीज ने आतंकियों का प्रतिरोध करते हुए दिलेरी से एक आतंकी पर काबू पाकर उसकी राइफल छीनने का प्रयास किया। उसे आतंकियों के साथ भिड़ते देख परिवार के अन्य लोगों ने भी प्रतिरोध किया। इस पर आतंकियों ने उनपर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। गोलियां लगने से रमीज, उसका भाई पिता और बुआ जमीन पर गिर पड़े। आतंकियों ने उन्हें मरा समझा और वहां से भाग गए।

गोलियों की आवाज सुनकर मौके पर पहुंचे सुरक्षाबलों ने घर के आंगन में घायल पड़े चारों को स्थानीय लोगों की मदद से अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने रमीज को मृत घोषित कर दिया। रमीज के भाई मुमताज, पिता गुलाम अहमद और बुआ हब्बा बेगम की हालत गंभीर बनी हुई है। इन तीनों को बेहतर उपचार के लिए श्रीनगर लाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *