देश को मिलेगी नई रफ्तार,बुलेट ट्रेन का हुआ शिलान्‍यास

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत यात्रा पर आए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबी ने बुलेट ट्रेन का शिलान्‍यास किया।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर जापान के प्रधानमंत्री का गुजरात की भूमि पर स्‍वागत करते हुए कहा कि शिंजो एबी हमारे सबसे घनिष्‍ठ मित्र हैं। उन्‍होंने कहा कि आज भारत ने अपने वर्षों पुराने सपनों को पूरा करने के लिए एक कदम उठाया है। बुलेट ट्रेन परियोजना ऐसा प्रोजेक्‍ट है जिसमें तेज गति भी है तेज प्रगति भी। सुविधा भी है और सुरक्षित भी है। यह प्रोजेक्‍ट रोजगार भी लाएगा और व्‍यापार भी लाएगा। आज का दिन भारत और जापान के लिए ऐतिहासिक और भावनात्‍मक भी है।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारा मकसद है इस तकनीक को भरपूर प्रयोग करते हुए इसे देश के गरीबों के जीवन से जुड़ जाए। इस प्रॉजेक्ट से रेलवे को फायदा होगा, रेलवे के नेटवर्क को नएपन की ओर जाना होगा। इस प्रॉजेक्ट से मेक इन इंडिया को भी मजबूती मिलेगी। यातायात के हर क्षेत्र में हमने एक समान इंफ्रास्ट्रकचर पर जोर दिया है। जीएसटी से यातायात को भी फायदा मिला है।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत और जापान की दोस्ती सीमा और समय से परे है। अगर आज इतने कम समय में इस योजना का भूमिपूजन हो रहा है तो इसका पूरा श्रेय शिंजो आबे को जाता है। मानम सभ्यता का इतिहास यातायात से जुड़ा हुआ है। किसी भी देश के विकास में यातायात एक महत्वपूर्ण योगदान देती है। जो लोग अमेरिका के इतिहास को जानते हैं उन्हें पता है कि रेलवे जाने के बाद कैसे वहां आर्थिक प्रगति शुरू हुई। आज यूरोप से लेकर चीन तक हाई स्पीड रेल न सिर्फ आर्थिक, बल्कि सामाजिक परिवर्तन में एक अहम भूमिका निभा रही है। जापान में भी बुलेट ट्रेन ने अर्थव्‍यवस्‍था को बदल कर रख दिया।

वहीं जापान के प्रधानमंत्री ने इस मौके पर अपने भाषण की शुरुआत नमस्‍कार से की। उन्‍होंने कहा कि भारत के नए अध्‍याय की शुरुआत से खुशी हो रही है। भारत अगर ताकतवर होता है, तो यह जापान के हित में है। हम प्रधानमंत्री मोदी की नीतियों का पूरा समर्थन करते हैं।

बुलेट ट्रेन की तकनीक जापान की है लेकिन संसाधन भारत से ही जुटाए जाएंगे। इस प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद रेलवे का भार घटेगा और उसका समय भी बचेगा। मन में एक सपना है कि जब आजादी के 75 साल पूरे हो यह योजना भी पूरी हो जाए। मुझे भरोसा है कि इस प्रॉजेक्ट को समय से पूरा कर लिया जाएगा। मैं गुजरात और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री का भी आभार प्रकट करता हूं।

शिंजो आबे ने कहा, ‘जापान का ‘ज’ और इंडिया का ‘इ’ अगर मिला दें तो यह ‘जय’ बन जाता है। जापान और भारत एशिया के दो बड़े लोकतंत्र हैं। हिंद और प्रशांत महासागर के सभी देश स्वतंत्र और खुले विचार रखते हैं। चाहता हूं कि मैं जब अगली बार आऊं तो बुलेट ट्रेन में प्रधानमंत्री मोदी के साथ आऊं। मुझे गुजरात बहुत पसंद हैं।’

पीएम मोदी की तारीफ करते हुए एबी ने कहा कि मेरे मित्र पीएम मोदी एक दूरदर्शी नेता है। मैंने प्रधानमंत्री मोदी के बुलेट ट्रेन के सपने को पूरा करने की प्रतिज्ञा ली है। जापान और भारत के इंजिनियर दिन-रात इस प्रॉजेक्ट को पूरा करने में लगे हैं। अगर वे ठान लें तो कुछ नामुमकिन नहीं। शक्तिशाली भारत जापान के हित में है। जापानी की बुलेट ट्रेने जबसे शुरू हुई है कभी कोई बड़ी दुर्घटना नहीं हुई। यह सबसे सुरक्षित रेल सेवा है।

शिलान्‍यास से पहले रेल मंत्री ने पीयूष गोयल ने बुलेट ट्रेन प्रोजेक्‍ट में जापान की मदद के लिए पीएम शिंजो एबी का धन्‍यवाद किया। उन्‍होंने कहा कि बुलेट ट्रेन प्रोजेक्‍ट भारत में बहुत बड़ा परिवर्तन लेकर आएगा। यह प्रोजेक्‍ट भारत के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा। मेक इन इंडिया को भी इस प्रोजेक्‍ट से गति मिलेगी। बुलेट ट्रेन जापान और भारतीयों के बीच भाइचारे का प्रतीक है। यह परियोजना एक लाख, आठ हजार करोड़ की है। जापानी पीएम की इस यात्रा से गुजरात को काफी लाभ होगा। अलंग शिपयार्ड को 600 करोड़, गुजरात में आधारभूत ढांचे के लिए एक हजार करोड़ आदि की भी मदद जापान करेगा।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो एबी ने बुलेट ट्रेन प्रोजेक्‍ट के मॉडल को देखा। एबी को बताया गया कि ट्रेन का रूट क्‍या होगा और कहां-कहां से होकर ट्रेन गुजरेगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *