उत्तराखंड की खूबसूरत नेलांग घाटी में हैं लद्दाख जैसे पहाड़।

लद्दाख का नाम सुनते ही आंखों के सामने बर्फ से ढंके पहाड़ो, घाटियों और सुंदर झीलों की खूबसूरत तस्वीर उभरकर सामने आती है लेकिन एक जगह और है जो लद्दाख जैसी खूबसूरत है। वो भी उत्तराखंड में, जी हां, अगर आप घूमने के शौकीन है और साथ में थोड़ा एडवेंचर भी पसंद करते हैं तो नेलांग घाटी आपके लिए बेस्ट डेस्टिनेशन साबित हो सकती है। नेलांग घाटी उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित है जो बेहद सुंदर और दर्शनीय जगह है। प्राकृतिक सुंदरता से लवरेज इस बेहद खूबसूरत इस घाटी…

Read More

व्यापारी ने केदारनाथ मंदिर को दान की दो कुंतल चांदी

रुद्रप्रयाग : केदारनाथ मंदिर में गर्भ गृह के खंभों पर चांदी की नक्काशी की जाएगी। इसके अलावा मंदिर में चांदी से अन्य सजावट भी की जाएंगी। इसके लिए दिल्ली के एक व्यापारी ने मंदिर को दो कुंतल चांदी दान की है। बदरी-केदार मंदिर समिति के मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह ने बताया कि एक वर्ष पूर्व व्यापारी महेश शर्मा ने गृर्भ गृह की सजावट चांदी से करने के लिए मंदिर समिति को प्रस्ताव भेजा था। हालांकि उन्होंने व्यापारी के बारे में ज्यादा कुछ बताने से इन्कार किया, लेकिन बताया कि  समिति…

Read More

देखिये तुंगनाथ और मध्यमहेश्वर की भव्य यात्रा और पहाड़ी देव – धुनों पर नाचते विदेशी शैलानियों को।

देखिये तुंगनाथ और मध्यमहेश्वर की भव्य यात्रा और पहाड़ी देव – धुनों पर नाचते विदेशी शैलानियों को।

Read More

यमुनोत्री राजमार्ग पर सैंकड़ों यात्री फंसे

यमुनोत्री राजमार्ग स्यानाचटटी से पहले डबरकोट एवं ओजरी के पास बंद हो गया। जिसके कारण दोनों ओर यात्रियों के वाहन फंस गए। लगातार मलवा पत्थर आने के कारण राजमार्ग खोलने के प्रयास भी नहीं किए गए। संभावना है कि जल्द ही मलबा गिरना बंद होने के बाद सरकारी मशीनरी अपना कार्य करेगी। बीआरओ की टीम मौके पर मौजूद है।

Read More

बरसात के बाद हिमालय की सुन्दर फूलों से लदी वादियां आपके इन्तजार में हैं। देखिये वीडियो।

हिमालय की तलहटी पर अनगिनत पुष्प और जड़ी-बूटियां पाई जाती हैं, जिनकी तलाश में अक्सर प्रकृति प्रेमी हिमालय की वादियों में आते हैं. समुद्र तल से करीब 16 हजार फिट से ज्यादा ऊंचाइयों में कई दुर्लभ जड़ी-बूटियां और फूल पाए जाते हैं., इनकी सुंदरता किसी को मन्त्र मुग्ध कर देने वाली होती है. समुद्र तल से 16 हजार फिट की ऊंचाई पर उत्तरखंड राज्य का राज्य पुष्प ब्रह्म कमल खिलता है. इस फूल की सुगंध किसी को भी दूर से अपने पास खींच लाती है. हरी-हरी बारीक पत्तियों के बीच…

Read More

Uttarakhand to form all-encompassing body to streamline development works in Chardham

Uttarakhand government is setting up an all-encompassing body to oversee the development works in the state’s famed four Hindu pilgrimage sites of Badrinath, Kedarnath, Gangotri and Yamunotri, which are plagued by haphazard growth. The proposed Chardham Development Authority (CDA) will be an umbrella organisation of all the existing religious and non-religious agencies such as Badri Kedar Temple Committee (BKTC) functioning in the areas, said tourism department sources. These holy sites draw lakhs of people from India, Nepal and other parts of the world every year. Haphazard development, encroachments have taken…

Read More

Tapovan Trek – combination of religious and adventure journey.

Tapovan comes from the two root words tapas – meaning pain or suffering, and by extension religious mortification and austerity, and more generally spiritual practice, and vana, meaning forest or thicket. Tapovan then translates as forest of austerities or spiritual practice. In Honour to the great saint Tapovan Maharaj this area was named as Tapovan. He authored two books on his travels through the Himalayas: “Wanderings in the Himalayas” (Himagiri Viharam) and “Kailasa Yatra.” Tapovan Maharaj exhibited a deep love for nature and his accounts of his travels demonstrate such.[citation needed] His autobiography, written in Sanskrit is titled “Ishvara Darshana”. After…

Read More