Thursday, October 22News That Matters
Shadow

सावधान! एक लिंक से आपका बैंक खाता हो सकता खाली! जाने कैसे ऋषिकेश के व्यक्ति से हुई ठगी

cyber crime
शेयर करें !

देहरादून (Live Uttarakhand): उत्तराखंड में साइबर क्राइम (Cyber crime) के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। आए दिन लोग इस तरह से ठगी का शिकार हो रहे हैं। अपराधी नए-नए हथकंडे अपनाकर लोगों को लूट-खसोट रहे हैं। ताजा मामला ऋषिकेश का है, जहां अपराधियों ने ऑनलाइन ठगी कर व्यक्ति से हजारों रूपये हड़प लिए। इसकी शिकायत पीड़ित ने पुलिस को दी।

क्या है मामला (Cyber crime)?

मामले के अनुसार, 15 जुलाई  को कोतवाली ऋषिकेश में टीएचडीसी कॉलोनी निवासी मदन पाल सिंह ने एक शिकायत दी, कि अज्ञात व्यक्ति ने लिंक भेज कर उनके स्टेट बैंक और पंजाब नेशनल बैंक के दोनों खातों से करीब 98 हजार रूपये निकाल लिए। मामला साइबर अपराध सेल (Cyber crime cell) में पहुँचने पर जांच की गई।

ठगी की पूरी रकम कराई वापस

जांच के क्रम में शिकायतकर्ता के स्टेट बैंक और पंजाब नेशनल बैंक के खातों का स्टेटमेंट निकला गया। जिसमे पता चला कि, अज्ञात व्यक्ति ने खाते से यह रकम पेटीएम (Paytm) के माध्यम से अलग-अलग तीन बैंकों में स्थानांतरण (Transfer) की गई। इस पर तत्काल साइबर थाने की मदद से इन खातों में गई धनराशि पर रोक लगा दी गई। इसके बाद आज गुरूवार को शिकायतकर्ता के खाते में यह पूरी राशि वापस करा दी गई है।

ये भी पढ़ें: उत्तराखंड में आज 145 कोरोना पॉजिटिव, 5445 पहुंचा आंकड़ा

साइबर अपराध क्या है?

यह (Cyber crime) एक आपराधिक गतिविधि है, जिसे कंप्यूटर और इंटरनेट के उपयोग द्वारा अंजाम दिया जाता है। जहाँ इनके (कंप्यूटर, नेटवर्क डिवाइस या नेटवर्क) ज़रिये ऐसे अपराधों को अंजाम दिया जाता है वहीँ इन्हें लक्ष्य बनाते हुए इनके विरुद्ध अपराध भी किया जाता है। ऐसे अपराध में साइबर जबरन वसूली, पहचान की चोरी, क्रेडिट कार्ड धोखाधड़ी, कंप्यूटर से व्यक्तिगत डेटा हैक करना, फ़िशिंग, अवैध डाउनलोडिंग, साइबर स्टॉकिंग, वायरस प्रसार, सहित कई प्रकार की गतिविधियाँ शामिल हैं।

साइबर अपराध से बचने के लिए सावधानी जरूरी

आज के समय में इंटरनेट का उपयोग लगभग हर क्षेत्र में किया जा रहा है। इंटरनेट के विकास और इसके संबंधित लाभों के साथ साइबर अपराधों (Cyber crime) की अवधारणा भी विकसित हुई है। हम जितनी तेज़ी से डिजिटल दुनिया की ओर बढ़ रहे हैं, ठीक उतनी ही तेज़ी से साइबर अपराध की संख्या में भी वृद्धि हो रही है।

जिस गति से तकनीक ने उन्नति की है, उसी गति से मनुष्य की इंटरनेट पर निर्भरता भी बढ़ी है। लेकिन इसमें थोड़ी भी असावधानी हमारे लिए संकट का भी कारण बन सकती है। ऐसे कई हथकंडे अपराधी अपनाते हैं, जिसके माध्यम से नौकरी, लाटरी व अन्य कई लालच देकर हमें फंसाते हैं। इससे बचने का सर्वश्रेष्ठ उपाय केवल सावधानी ही है। सावधानी से इसका प्रयोग कर हम सुरक्षित रह सकते हैं।

लाइव उत्तराखंड से यूट्यूब पर जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें

शेयर करें !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *