नेशनल पार्क में बढ़ गए बाघ और हाथी

बाघ और गजराज को झारखंड की आबोहवा भा रही है। इसी का नतीजा है कि पलामू स्थित बेतला नेशनल पार्क में बाघों और हाथियों की संख्या बढ़ रही है। 2014 में यहां बाघों की संख्या चार थी जो 2017 में बढ़कर छह हो गई है। इसी अवधि में यहां हाथियों की संख्या 150 से बढ़कर 186 हो गई है। इसकी पुष्टि पलामू व्याघ्र परियोजना के निदेशक एमपी सिंह ने की है। वन्य जीवों की संख्या में बढ़ोतरी का ही असर है कि यहां आने वाले सैलानियों की संख्या भी काफी बढ़ गई है।

जानवरों की बढ़ती संख्या को देखते हुए वन विभाग अब पार्क के आसपास बसे लोगों को वहां से हटाकर अन्यत्र बसाने का प्रयास कर रहा है, ताकि मानव व वन्य जीव दोनों ही सुरक्षित रह सकें। वन विभाग पार्क के अंदर अन्य वन्य प्राणियों को भी बसाना चाहता है। डीएफओ अनिल कुमार मिश्रा ने बताया कि देश के विभिन्न भागों जहां सांभर (हिरण की प्रजाति) की संख्या अधिक है वहां से सांभरों को यहां लाकर छोड़ा गया है, ताकि पार्क के अंदर बाघों के लिए प्राकृतिक वातावरण एवं भोजन- पानी उपलब्ध हो सके। वन विभाग पार्क के अंदर विशेष प्रकार की घास लगा रहा है ताकि यहां की खुरदरी एवं पथरीली जमीन से बाघों के पंजे जख्मी न हो सकें। इसके अलावा हाथियों के लिए भी यहां हरियाली बढ़ाई जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *