Saturday, August 15News That Matters
Shadow

कोरोना का कहर: देहरादून का CMI अस्पताल भी सीज, 11 कर्मी संक्रमित आने से 300 लोग क्वारंटाइन

cmi hospital
शेयर करें !

CMI Hospital भी सीज..

देहरादून (Live Uttarakhand): उत्तराखंड में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। प्रदेश में हर दिन 100-200 के करीब मामले सामने आ रहे हैं। सभी जिलों में से देहरादून जिला अभी तक सबसे अधिक प्रभावित रहा है। अब तक के कुल 5,961 मामलों में से देहरादून जिले में ही अकेले 1,391 मामले सामने आये। शहर के कई क्षेत्रों में लगातार कोरोना पॉजिटिव आ रहे हैं। स्थिति यह है कि अब निजी अस्पताल भी कोरोना के चलते बीमार पड़ने लगे हैं।

हरिद्वार रोड स्थित निजी नर्सिंग होम बंद हुए अभी दो दिन पूरे हुए ही नहीं थे कि इसी अस्पताल से कुछ दूर स्थित सीएमआई अस्पताल (CMI Hospital) को भी बंद करना पड़ा है। सीएमई अस्पताल (CMI Hospital) के 11 चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मी कोरोना पॉजिटव मिले हैं, जिसके बाद अस्पताल परिसर को सैनिटाइज किया जा रहा है।

CMI Hospital के 11 चिकित्सक व स्वास्थ्यकर्मी मिले कोरोना पॉजिटव

CMI अस्पताल (CMI Hospital) में मिले सभी संक्रमितो को दून मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। पिछले दिनों सीएमआई में इलाज करा रही चकराता निवासी महिला भी कोरोना संक्रमित हुई थी। इसके बाद इलाज करने वाले डॉक्टर व स्टाफ का टेस्ट कराया गया था। रिपोर्ट में कोरोना पॉजिटिव आने के बाद सीएमआई अस्पताल को एहतियात के तौर पर सीज किया गया। अब सेनेटाइजेशन के बाद ही अस्पताल को खोलने की अनुमति दी जाएगी। वहीं क्लोज कॉन्टेक्ट में आए अस्पताल (CMI Hospital) के करीब 300 चिकित्सक-स्टाफ को भी सप्ताहभर के लिए होम क्वारंटाइन रहने को कहा गया है। यहां के मरीजों को अन्य अस्पतालों में शिफ्ट किया गया है।

ये भी पढ़ें: उत्तराखंड में आज कोरोना के 244 नए मामले, 6 हजार के करीब पहुंचा आंकड़ा

बता दें कि, प्रदेश में अब तक कुल कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 5,961 तक जा पहुंचा है। इनमे से 3,495 ठीक हो चुके हैं। जबकि, 63 लोगों की मौत हो चुकी है। 38 कोरोना संक्रमित प्रदेश से बाहर जा चुके हैं। अब 2365 संक्रमित हैं, जिनका उपचार किया जा रहा है।

वहीं पिछले कुछ दिनों में रिवकरी रेट में तेजी से कमी आई है, जहां प्रदेश का रिकवरी रेट 80 फीसदी से अधिक हो गया था, यह अब 58.63 फीसदी रह गया है। प्रदेश में जांच का दायरा बढाने के बावजूद अब भी प्रदेश में पर्याप्त जांच नहीं हो पा रही है। विभिन्न लैब में अब भी 6396 सैम्पल पेंडिंग है, जिनकी रिपोर्ट आनी बाकी है। इसमें भी हर रोज लगातार सैंपल भेजे जाने से लैबों पर दबाव बढ़ता जा रहा है।

लाइव उत्तराखंड से यूट्यूब पर जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें

शेयर करें !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *