Saturday, August 15News That Matters
Shadow

पिथौरागढ़ में फिर बरपा कहर, रात को घर जमींदोज, सुबह ग्रामीणों ने देखा खौफनाक मंजर

pithoragarh
शेयर करें !

पिथौरागढ़ (Live Uttarakhand): उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार बारिश का कहर बरप रहा है। प्रदेश के सीमान्त जिले पिथौरागढ़ (Pithoragarh) में एक हफ्ते पहले बारिश से हुई भारी तबाही के मंजर से लोग अभी उभरे भी नहीं थे कि, एक बार फिर जिले में बारिश का कहर बरपा है। पिथौरागढ़ (Pithoragarh) जिले में बंगापानी तहसील के धामी गांव के भ्यौला तोक में भूस्खलन से एक घर मलबे में दब गया। इस हादसे में परिवार के दो सदस्य समेत मवेशी भी लापता हैं।

रात को घर दफन, सुबह चला पता

यह हादसा रविवार रात भारी वर्षा के चलते हुआ। हादसे की जानकारी ग्रामीणों को सुबह मिली। जब गांव वालों ने देखा कि, घर की जगह पर मलबा पसरा हुआ है। इसके बाद ग्रामीण राहत बचाव कार्य में जुटे। साथ ही प्रशासन की टीम भी मौके के लिए रवाना हुए।

सुबह मलबे में दबी महिला

वहीं पिथौरागढ़ जिले के ही तहसील तेजम ग्राम गोठी में आज सुबह एक महिला नाले में मलबा आने से दब गई है। बीती रात को क्षेत्र में हुई भारी बारिश ने भारी तबाही मचाई है।

ये भी पढ़ें: उत्तराखंड बोर्ड रिजल्ट: खत्म हुआ इंतजार, इस दिन जारी होगा रिजल्ट, ऐसे करें चेक..

18 जुलाई को भी बारिश ने मचाई तबाही

बता दें कि, इससे पहले 18 जुलाई की रात पिथौरागढ़ (Pithoragarh) के बंगापानी तहसील के छोरीबगड़ में छह मकान गोरी नदी में बह गए थे। थल-मुनस्यारी, टनकपुर- तवाघाट हाईवे मलबा आने से बंद हो गया था। चीन सीमा का संपर्क भी कट गया था। भारी बारिश के कारण इससे कुछ दिन पहले चीन सीमा को जोड़ने वाले मार्ग पर बना नया पुल बह गया।

लगातार दूसरे दिन 19 जुलाई को भी हुए मकान जमींदोज

वहीं इसके बाद 19 जुलाई को रविवार को भी लगातार दूसरे दिन पिथौरागढ़ (Pithoragarh) जिले के मुनस्यारी और अन्य इलाकों में भारी बारिश और बादल फटने से भारी तबाही हुई। गैला गांव में मकान जमींदोज होने से तीन लोग लापता हो गये थ, जबकि पांच घायल हुए। टांगा गांव में भूस्खलन के दौरान पहाड़ी से निकले मलबे के साथ तीन मकान भी बह गए थे।

लाइव उत्तराखंड से यूट्यूब पर जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें

शेयर करें !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *